ई-पेपर
Change Your City
 

Go to Page << Previous1234567...1314Next >>

 
 
 
एसबीसी 5% आरक्षण का ड्राफ्ट तैयार  देशभर में सात दिन का राष्ट्रीय शोक   भास्करन्यूज | शिलॉन्ग   पूर्वराष्ट्रपति और मिसाइलमैन डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम नहीं रहे। सोमवार शाम 7.45 बजे दिल का दौरा पड़ने से उनका निधन हो गया। वह 83 साल के थे। उनका जन्म 15 अक्टूबर 1931 को तमिलनाडु के रामेश्वरम में हुआ था।   डॉ. कलाम मेघालय के शिलॉन्ग आईआईएम में लेक्चर दे रहे थे। तभी अचानक उनकी तबीयत बिगड़ गई और वे गिर पड़े। उन्हें तुरंत शिलॉन्ग के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। वहां आईसीयू में उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया। गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज, सेना, वायुसेना और असम राइफल्स के डॉक्टरों की टीम भी वहां पहुंची। 45 मिनट तक डॉक्टरों ने कोशिश की, लेकिन सांसें नहीं लौटीं। कलाम भारत की तीसरी शख्सियत थे, जिन्हें राष्ट्रपति बनने से पहले भारत रत्न मिला। उन्हें 1997 में भारत रत्न से सम्मानित किया गया था। वह 2002 से 2007 तक भारत के राष्ट्रपति रहे। उनसे पहले सर्वपल्ली राधाकृष्णन और डॉ. जाकिर हुसैन को उपराष्ट्रपति रहते हुए भारत रत्न दिया गया था। इसके बाद ये दोनों राष्ट्रपति बने।   राज्यमें सरकारी स्कूल, दफ्तरों में छुट्‌टी नहीं, कुछ निजी स्कूलों ने अपने स्तर पर छुट्‌टी घोषित की।   सुविचार   आपजो कुछ कर रहे हैं, अगर उसमें जोश और जुनून नहीं है तो आपके पास खाेने या निराश होने के लिए भी कुछ नहीं है।   -बिल कोपलैंड  जंग की मुहर, स्वाति दिल्ली महिला आयोग अध्यक्ष  बालटाल से श्रद्धालुआें का नया जत्था रवाना  प्रो-रेसलिंग लीग लांच  21 रेलवे स्टेशनों पर होगी कुली की ऑनलाइन बुकिंग  अब घरेलू वर्करों को मिलेगा नियुक्ति पत्र  चार भारतवंशी स्पेलिंग बी प्रतियोगिता के फाइनल में
 
 
 
 
MATRIMONY
 
विज्ञापन