ई-पेपर
Home >> Bhopal >> Bairagarh
Change Your City
 
ओवर ब्रिज को मिली मंजूरी   बांस दिवस पर रोपे पौधे   अस्पताल, क्लीनिकों पर जाकर जताया आभार  डॉक्टर्स डे : चिकित्सकों का क्लीनिक पर किया सम्मान   सिंधु दर्शन यात्रा से लौटे यात्री सबनानी का हुआ सम्मान   40 दिनी कठोर व्रत साधना का पर्व   सिंध से चली आ रही परंपरा है चालीहा साहिब उत्सव। 14 सौ साल पुरानी सिंधु नदी की संत महात्माओं ने यह परंपरा शुरू की थी। वरुण देव (भगवान झूलेलाल) की आध्यात्मिक साधना के इस पर्व का सिंधी समाज में खासा महत्व है। लगातार 40 दिन तक कठिन व्रत साधना कर समाज के लोग मानव कल्याण के लिए सामूहिक प्रार्थना (पल्लव)करते हैं। आमतौर पर हर साल 16 जुलाई से 24 अगस्त तक चालीहा पर्व मनाया जाता है।  टैक्स वसूल करो, वरना वेतन वृद्धि रुकेगी   शिवराज ने समर्पित किया था अटलजी के नाम को कॉरिडोर  कॉरिडोर पर अब तक नहीं अटल जी का नाम   नवरात्र की तरह कठोर व्रत साधना की तैयारी   उदासीनता की भेंट चढ़ी हरियाली   भोपाल
 
 
 
 
MATRIMONY
 
विज्ञापन