Home >> Madhya Pradesh >> Bhopal City Bhaskar >> Bhopal City Bhaskar
    • Set as Default
     
     
    ग्लैमर    काजोल ने कहा कि उन्हें टीवी पर आने में कोई हर्ज नहीं है। खासकर तब, जब इसके...  सिटी रिपोर्टर <img src=images/p3.png<img src=images/p1.png> पहली बार लैंस पहनने पर हमें काफी मुश्किल महसूस होती। आंखों में साफ भी नहीं दिखता। ऐसे में वे लड़कियां जिनकी शादी नजदीक है, वे लैंस लगाने से लेकर पूरी जानकारी तक के लिए प्रापर ट्रेनिंग ले रही हैं। सिटी की ब्यूटीशियन सोनू वर्मा ने बताया कि ब्राइडल मेकअप में सबसे जरूरी आई मेकअप होता है। इन्हें हाइलाइट करने के लिए लेंसेज लगाएं जाते हैं। सॉफ्ट और नेचुरल लुक के लिए कलर्ड लैंस का उपयोग इन दिनों ट्रेंड में हैं। इस सीरीज में पहली बार हेजल कलर लेंस इंट्रोड्यूस हुआ है। इसके अलावा सी-ग्रीन, पर्पल ,ग्रे,ग्रीन और पीकॉक कलर्स भी इन है। यहां ब्राइड की ड्रेस और स्किन टोन के मुताबिक लैंस के कलर्स सिलेक्ट किए जा रहे हैं।   ब्यूटीशियन निक्की बावा ने बताया कि ेडिंग के पहले ही लैंस का कलर ड्रेस के कलर के हिसाब से सिलेक्ट कर लिया जाता है। जिन लड़कियों को चश्मा लगा होता है, उन्हें पहले ही पॉवर के हिसाब से लैंस बनवाने पड़ते हैं। आई स्पेशलिस्ट डॉ. एस चौधरी का गहते हैं कि मेकअप पार्टिकल्स लैंस और आंखोंं के बीच में नहीं आना चाहिए। लैंस लगाते समय ड्राइनेस की प्राॅब्लम होती है इसे रोकने के लिए टियर ड्रॉप्स यूज कर सकते हैं। लैंस में सेमी सॉफ्ट लैंसेज ठीक हैं, ये 12 घंटे तक पहने जा सकते हैं। अगर शादी के दौरान ट्रेवलिंग करनी हो तो गॉगल या पॉवर ग्लासेज जरूर पहनें। इससे धूल के कण आखों नहीं जाएंगे। लैंस लगाने पर आखें या तो तेजी से झपकती है या तो झपकती ही नहीं हैं। इसीलिए शादी के पहले ही इसकी प्रेक्टिस कारगर होता है।  किस्से-कहानियों और खेलों के जरिए दे रहे शिक्षा   भोपाल की स्टूडेंट्स ने स्केटिंग में जीते गोल्ड   कैनवास, कैमरा और कलम के जादूगर थे पद्मश्री वामन ठाकरे   इंग्लिश रीडर्स की चॉइस बनीं नए टाइटल की हिंदी बुक्स   कचरे से बिजली बनाने काे लेकर बनाया प्रोजेक्ट   11वीं के हर्षित धाकड़ ने सॉलिड एंड ह्यूमन वेस्ट का निपटारा करने के लिए एक इंडस्ट्रियल प्रोजेक्ट को प्रेजेंट किया। उन्होंने बताया कि, वेस्ट बिजली के उत्पादन का सोर्स हो सकता है। वहीं, इस्तेमाल के बाद बचा हुआ हिस्सा खाद के रूप में खेतों में प्रयोग किया जा सकता है। वहीं, इसके अलावा स्टूडेंट द्वारा वाॅटर प्यूरीफायर, वॉटर पम्प और अन्य तरह के प्रोजेक्ट्स को भी प्रस्तुत किया गया। इस दौरान कई सांस्कृतिक कार्यक्रमों को प्रस्तुत किया गया।  CSIR नेट के ई-एडमिट कार्ड जारी   रंगदर्शनी में देखें पॉल्यूशन, ट्रेडिशन पर बनी बंगाल के आर्टिस्ट की पेंटिंग   ईगो छोड़ तलाशिए खुशनुमा जिंदगी