ई-पेपर
Change Your City
 
रसोई में मौजूद मसाले इम्यून सिस्टम को देते हैं मजबूती: डॉ. अरुण   प्रेमी युगल, दहेज और रामायण के रोचक संवाद   स्कूलों को ऑनलाइन मिलेंगे 9वीं-10वीं के पेपर्स   टिस कोर्सेज़ के लिए आवेदन 7 अप्रैल तक   2 महीने में तैयार हुए प्रदीप के गीतों की प्रस्तुति आज   भोपाल से करीब 45 किलोमीटर की दूरी पर रायसेन जिले के हाथीटोल में आपको चट्टानों का प्राकृतिक जमावट और ऐतिहासिक राॅक आर्ट देखने को मिलेंगे। ये राॅक आॅर्ट भोपाल के आसपास की सबसे दिलचस्प स्थानों में से एक हैं। हाथीटोल जाने के लिए हमें रायसेन किले से पहले वाली सड़क पर करीब डेढ़ किलोमीटर का सफर करना होता है। टू व्हीलर से यात्रा करना ज्यादा सुविधाजनक है। हाथीटोल में बड़ी संख्या में शैलाश्रय यानि राॅक शेल्टर और विभिन्न आकार की चट्टानंे हैं। सबसे आकर्षक दो मंजिला वह शैलाश्रय है, जिसके दोनों ओर राॅक आर्ट उकेरा दिखाई देता है। इन राॅक आॅर्ट में आपको केवल गेंडा ही नहीं दिखाई देगा बल्कि लाल या सफेद रंगों में बनाए गए हिरणों के झुंड, लड़ते इंसान और अन्य पशुओं के चित्र भी बड़ी संख्या में मिलेंगे।   इतना ही नहीं, हाथीटोल से कुछ मीटर पहले बिजलीटोल नाम से चर्चित चट्टानें भी आपका दिल जीत लेंगी। कहा जाता है कि बिजली गिरने पर यह बड़ी सी चट्टान दो भागों में बंट गई थी। दैत्याकार चट्टान का वर्टिकल दो भागों में बंटना साफ दिखाई देता है और यह विभाजन ही इस चट्टान की खासियत है।
 
 
 
 
MATRIMONY
 
विज्ञापन