Home >> Madhya Pradesh >> Bhopal >> Dbstar Bhopal
Change Your City
 

Go to Page << Previous1234567...1011Next >>

 
 
 
आखिर क्यों आईफा से नदारद हैं श्रीदेवी? पेज-6  राधेश्याम दांगी <img src=images/p3.png<img src=images/p1.png> भोपाल   भदभदा रोड स्थित क्षेत्रीय फोरेंसिक लैब परिसर में सितंबर 2014 से ऑडियाे फोरेंसिक लैबोरेटरी संचालित है। यह प्रदेश की इकलौती ऐसी लैब है, जहां रिश्वत, फिरौती, अपहरण, डकैती, दुष्कर्म, हत्या आदि कई गंभीर प्रकरणों से संबंधित ऑडियो साक्ष्यों की जांच की जाती है। वहां से जांच रिपोर्ट मिलने में देरी के चलते प्रकरणों की तफ्तीश में समय लगता था। अब शहर में ही ऑडियो जांच की व्यवस्था होने से गंभीर मामलों की जांच में तेजी आई है।   अब तक इस लैब में 100 से अधिक ऑडियो साक्ष्यों का परीक्षण किया जा चुका है। फिलहाल यहां पर शासन और पुलिस द्वारा भेजे गए साक्ष्यों का ही परीक्षण किया जा रहा है।   सर्वाधिक प्रकरण लोकायुक्त पुलिस के   लैब में प्रदेशभर से हर माह औसतन 10-12 प्रकरण परीक्षण के लिए आते हैं। इनमें अधिकांश मामले पुलिस और आर्थिक अपराध से जुड़े होते हैं। इस लैब में साक्ष्यों का परीक्षण इतना सटीक होता है कि उसके निष्कर्ष के अाधार पर अपराधी तक पहुंचने में पुलिस को काफी मदद मिलती है। अब तक के यहां वॉइस टेस्टिंग सबसे अधिक प्रकरण लोकायुक्त पुलिस द्वारा भेजे गए हैं। लैब की ऑडियाे फोरेंसिक जांच रिपोर्ट के आधार पर आपराधिक मामलों की पुष्टि होने पर कोर्ट में प्रकरण पेश किए गए हैं। पुलिस के लिए यहां की जांच रिपोर्ट मामलों की तह तक जाने में उपयोगी साबित हो रही है। शेष पेज <img src=images/p1.png>2  राजधानी के आसपास पत्थर-कोपरा खदानों में धड़ल्ले से अवैध उत्खनन चल रहा है। इससे जमीन में गहरे गड्‌ढे हो गए हैं, जो बरसात तालाब और पोखर में तब्दील हो जाते हैं। कलेक्टर भोपाल को भी ऐन मानसून के मौके पर सुरक्षा की याद आई है। उन्होंने खदानों के आसपास दीवार बनाने के निर्देश दिए हैं।
 
 
 
 
MATRIMONY
 
विज्ञापन