Home >> Madhya Pradesh >> Dbstar Bhopal >> Dbstar Bhopal
Change Your City
 
एक ने मां की मनाही पर भी, दूजे ने कोच के कहने पर चुना हॉकी   पेज-6  इसलिए मारे जा रहे हैं पेंगोलिन   वाइल्ड लाइफ के एपीसीसीएफ आरपी सिंह बताते हैं कि पहले गेंडों के सींग की डिमांड बहुत थी, लेकिन वे अब मिलते नहीं हैं। इसलिए तस्करों की नजर अब पेंगोलिन पर है। दक्षिण पूर्व एशिया के देशों में इसका इस्तेमाल शक्ति वर्धक दवाइयां एवं बुलेट प्रूफ जैकेट बनाने में किया जाता है। इसके अलावा कुछ सजावटी वस्तुओं में भी इसका उपयोग होता है। पेंगोलिन को हिंदी में सालखपरी या चींटीखोर कहा जाता है। इसकी तस्करी करने वालों को सात साल का कारावास या न्यूनतम दस हजार रुपए का जुर्माना किया जाता है।  इंजीनियरिंग कॉलेजाें के बाद अब प्राइवेट आईटीआई की बाढ़   सैर-सपाटा में सुबह सैर कर सकेंगे आमजन   आखिर थेटे की पीठ पर किसका हाथ?   नेता के यहां रहस्यमय चोरी   कांग्रेस को खुशी भाजपा ने दी   काम से ज्यादा बाल झड़ने की चिंता
 
 
 
 
MATRIMONY
 
विज्ञापन