Home >> Rajasthan >> Bikaner
Change Your City
 

Go to Page << Previous1234567...1516Next >>

 
 
 
गृहमंत्री राजनाथ के दौरे से पहले दो हमले   , घुसपैठ का प्रयास विफल  जुमातुलविदा  चांदी 2000 रु. महंगी, दो साल बाद 45,000 पर  सेंसेक्स +145.19 27,144.91   यूरो-0.30 74.89   डॉलर-0.2067.32   सोना+200.00 29,200   चांदी+2000.00 45,000  ढाका के रेस्त्रां में घुसे हमलावर, विदेशियों सहित 30 बंधक बनाए  ऐसे देश में नहीं रहता जहां धार्मिक ठेकेदारों का राज, मैं धर्मगुरुओं से नहीं डरता : इरफान  जयपुर में सात मिमी बारिश  तानाशाह जैसे हैं फेसबुक सीईओ जकरबर्ग स्टाफ से टेबलें साफ कराते हैं, गालियां देते हैं  प्रवीण कौशिक |फरीदाबाद |राजेंद्र बतरा|श्रीगंगानगर(साथ में दिव्य भास्कर नेटवर्क)   दिल्लीसे सटी नवीन नगर सोसायटी में 1835 लोग 17 साल से अपने प्लॉट के लिए संघर्ष कर रहे हैं। यहां उनकी जमीनों पर भूमाफिया का कब्जा है। जमीन का हक पाने के लिए एक युवक यशपाल तो पिछले 814 दिन से मिनी सचिवालय के सामने धरने पर है।   राजस्थान के श्रीगंगानगर में जमीन के लिए भाई-बहनों, जेठानी-देवरानी और सास-बहू के बीच 2000 से ज्यादा केस चल रहे हैं। अहमदाबाद के ओगणज गांव में आधी सदी से तीन पीढ़ियां 12 हजार वर्गफीट जमीन के लिए कानूनी लड़ाई लड़ रही है।   यह सिर्फ तीन मामले नहीं है, जमीनों से जुड़ा सबसे बड़ा सच है। देश में सबसे ज्यादा मुकदमे जमीनों के ही हैं, सबसे पुराना मुकदमा भी जमीन का है। ‘दक्ष सर्वे के मुताबिक-देश में लंबित 73 लाख सिविल मुकदमों में 66% जमीन से जुड़े हैं। विशेषज्ञ कहते हैं कि अगर जमीन प्रक्रिया और रिकॉर्ड सुधर जाए तो अदालतों से 60% तक यानी करीब 30 लाख केस खत्म हो सकते हैं। जमीनी रिकॉर्ड सही करने के लिए केंद्र पिछले 28 साल में तीन बार प्रोग्राम लॉन्च कर चुका है। लेकिन कई राज्य सरकारों ने तो फंड की आधी राशि भी इस्तेमाल नहीं की।   52साल , तीन पीढ़ियां, और एक रुका हुआ फैसला पेज | 4  शीना के सिर पर बैठी इंद्राणी और गला दबाया : ड्राइवर  फ्लैट में देरी पर पांच करोड़ जुर्माना, नहीं चुकाया तो निदेशक जेल जाएंगे  पुलिस फायरिंग में मौत की जांच सीबीआई को  गैर सब्सिडी सिलेंडर 11 रु सस्ता सब्सिडी सिलेंडर 1.98 रु. महंगा  शास्त्री ने आईसीसी क्रिकेट समिति से दिया इस्तीफा  वायुसेना में शामिल हुआ तेजस  राजन बने सीएम सलाहकार परिषद के उपाध्यक्ष  अमरनाथ यात्रा शुरू, जम्मू से पहला जत्था रवाना  बड़े भाई की मौत का गम नहीं सह पाई बहन, चिता पर लेटकर दे दी जान  न्यूज ब्रीफ
 
 
 
 
MATRIMONY
 
विज्ञापन