ई-पेपर
Change Your City
 
सिटी रिपोर्टर }   हरसाल राउंड टेबल इंडिया संस्था एक कार रैली करवाती है। इस कार रैली में दृष्टिहीन बच्चे को-ड्राइवर का रोल अदा करते हैं। उन्हें एक रूट मैप दिया जाता है जो ब्रेल लििप में होता है। बच्चे उसे पढ़कर ड्राइवर को बताते हैं आैर ड्राइवर कार चलाता है। जो चैक प्वाइंट्स को समझते हुए मंजिल तक तय समय में पहुंचता है, वह विनर कहलाता है। दरअसल यह रैली दृष्टिहीन बच्चों को मोटिवेट करने के लिए होती है। इस बार इसे वेलेंटाइन डे के मौके पर आयोजित किया जा रहा है, ताकि बच्चों को इस दिन से जोड़कर स्पेशल फील करवाया जा सके। चंडीगढ़ राउंड टेबल के चेयरमैन इशू बंसल मंगलवार को इसी रैली के सिलसिले में शहर में थे। उन्होंने बताया, ‘यह ब्लाइंड कार रैली का चौथा सत्र है। इसे करवाने का मकसद दृष्टिहीन बच्चों को आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करना है। रैली में हिस्सा लेकर उन्हें अपनी देखने की सीमित क्षमता से अलग अपने कौशल और दृष्टिकोण को प्रदर्शित करने का अवसर मिलता है। दूसरी खास बात यह है कि यह एक फंड रेजिंग रैली होती है, जिससे इकट्ठा होने वाला पैसा ‘फ्रीडम थ्रू एजुकेशन प्रोजेक्ट को जाता है। एक ऐसा प्रोजेक्ट जिसके तहत सुविधाओं से वंचित बच्चों के लिए स्कूल के निर्माण में जाता है। ऐसे में दृष्टिहीन बच्चे समाज सुधार का भी काम करते हैं।   कब: 14फरवरी को सेक्टर 26 के इंस्टीट्यूट फॉर ब्लाइंड से सुबह 9:30 बजे होगी रवाना कहांसे कहां तक : सेक्टर26 से शुरू होकर 50 किलोमीटर का फासला तय कर वापिस वहीं खत्म होगी। 100 दृष्टिहीन बच्चे लेंगे हिस्सा।  {बिट्‌टू सफीना संधू   राइटरऔर मोटिवेशनल स्पीकर
 
 
 
 
MATRIMONY
 
विज्ञापन