Home >> Jharkhand >> Dbstar Dhanbad >> Dbstar Dhanbad
    • Set as Default
     
     
    उत्क्रमित मध्य विद्यालय, दरीदा के प्रधानाध्यापक जयराम मिश्रा ने कहा कि विद्यालय में 220 छात्र-छात्राएं हैं। सभी का आधार कार्ड नंबर और बैंक खाता संख्या दिया गया है। इसके बावजूद किसी स्टूडेंट के खाते में राशि नहीं आई है। उत्क्रमित मध्य विद्यालय, मुराईडीह के एचएम देवेंद्र प्रसाद शर्मा ने कहा कि उनके स्कूल के सभी 180 बच्चों के बैंक खाते को आधार से लिंक करा दिया गया है। इसके बावजूद किसी को योजना का लाभ नहीं मिल पाया है। दूसरी ओर, उत्क्रमित मध्य विद्यालय, हरिणा के प्रधानाचार्य दिलीप पंडित ने कहा कि स्कूल में पढ़ने वाले 191 बच्चों में महज 10-12 बच्चों के साथ ही समस्या है। बाकी सभी बच्चों को योजना का लाभ मिल गया है।  स्टेशन परिसर की निगहबानी करेंगे उच्च क्वालिटी के 57 सीसीटीवी कैमरे  डीबी स्टार } जमशेदपुर/रांची  आर्म्स लाइसेंस बनाने के नियमों को कड़ा कर दिया गया है। अब आर्म्स लाइसेंस के लिए लोगों को आवेदन के वक्त जिला दंडाधिकारी के कार्यालय में मान्यता प्राप्त रायफल क्लब से गन रिवाल्वर चलाने का अनुभव प्रमाण-पत्र भी जमा करना पड़ेगा। इसके अलावा मानसिक रूप से स्वस्थ होने का मेडिकल प्रमाण-पत्र भी देना होगा। उपरोक्त प्रमाण-पत्र नहीं देने पर आवेदक को किसी भी सूरत में लाइसेंस जारी नहीं किया जाएगा।   10-12 दिन पहले सरकार ने नियम में फेरबदल इस कारण से किया है, क्योंकि अब तक आर्म्स लाइसेंस रखना एक स्टेटस सिंबल बन गया था। कुछ ऐसे लोगों ने पत्नी अन्य रिश्तेदारों के नाम से लाइसेंस ले लिया है, जिन्हें गन चलाने का कोई अनुभव नहीं है। माना जा रहा है कि नियमों को सख्त करने से आर्म्स रखने वालों की संख्या में कमी आएगी और आवेदन भी कम आएंगे। सरकार ने हथियार बेचने, लाइसेंस ट्रांसफर, हथियार लेकर यात्रा करने की अनुमति, लाइसेंस बुक, लाइसेंसी का पता बदलने समेत सभी काम के लिए शुल्क देने का प्रावधान किया है। लाइसेंस से संबंधित किसी भी काम के लिए कम से कम 500 रुपए शुल्क निर्धारित किया गया है। नए प्रावधान के मुताबिक, अब 70 साल से अधिक होने आयु के लोगों को आर्म्स लाइसेंस सरकार को सौंप देना पड़ेगा।  अधिकारी और बाबू अभी से बजट का हिसाब लगा रहे  राज्य में 1 लाख सर्टिफिकेट केस और 1 हजार वारंटी, पर नहीं हो रहा तामिला