Change Your City
 

Go to Page << Previous1234567...1516Next >>

 
 
 
{अनुपम सिंह/भास्कर न्यूज नेटवर्क . बिलासपुर/नईदिल्ली   छत्तीसगढ़हाईकोर्टमें चीफ जस्टिस रहते हुए कोर्ट में कठघरे बनवाए थे। ताकि अवमानना करने वाले अफसरों को गलती का अहसास कराया जा सके। महिला वकीलों को अम्मा कहने का उनका अंदाज आज भी कोर्ट में याद किया जाता है। बिलासपुर की वकील हमीदा सिद्दिकी कहती हैं- शुरुआत में अम्मा सुनना मुझे और मेरी साथियों को अटपटा लगता था। लेकिन फिर इसमें उनकी आत्मीयता की झलक दिखने लगी। वह सुप्रीम कोर्ट के इकलौते जज हैं जो वकीलों को नाम से पुकारते हैं।   सरल स्वभाव इसी से झलकता है कि किसी ने उनकी बेटी से पूछा- तुम्हारे पिता काम क्या करते हैं तो उसका जवाब था- कोर्ट में कर्मचारी हैं। दत्तू के पिता एचएल नारायणस्वामी अंग्रेजी शिक्षक थे। यही कारण था कि जब दत्तू पैरवी करते तो अंग्रेजी के लिए उनकी तारीफ होती।  हर महीने, हर एप से हो रहे हैं 10 लाख गाने डाउनलोड  अभी सिर्फ 36 हीरा खदानें 6 साल में रह जाएंगी आधी  संडे स्नैप  ट्रेनों की पेंट्री कार में लगेंगे सीसीटीवी कैमरे  अलीबाबा और 40% मुनाफा : 10 सबक  भारत का सबसे बड़ा समाचार पत्र समूह
 
 
 
 
MATRIMONY
 
विज्ञापन