ई-पेपर
Change Your City
 

Go to Page << Previous1234567...1920Next >>

 
 
 
पीएमटी फर्जीवाड़ा त्न123 छात्रों के एडमिशन होंगे निरस्त  ग्वालियर-झांसी हाईवेत्नहाईकोर्ट सख्त, कहा-  कारोबारियों के लिए मोबाइल एप   नई दिल्लीत्नकैपिटलवाया   ग्लोबल रिसर्च ने कारोबारियों के लिए मोबाइल एप्लीकेशन पेश किया है। इससे उन्हें शेयर और जिंस कारोबार दोनों में तकनीकी मदद मिलेगी। यह सेवा फिलहाल एंड्रायड फोन पर ही उपलब्ध हो सकेगी।     स्वामीनाथन को एकता पुरस्कार   नई दिल्लीत्नकृषि   वैज्ञानिक एमएस स्वामीनाथन को इंदिरा गांधी राष्ट्रीय एकता पुरस्कार के लिए चुना गया है। पुरस्कार समिति के सचिव मोती लाल वोरा ने यह जानकारी दी। इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि ३१ अक्टूबर को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी यह पुरस्कार देंगी। कांग्रेस १९८५ से यह पुरस्कार देती आ रही है।     मलाला को मानवाधिकार अवॉर्ड   लंदनत्नमलाला   को अब यूरोपियन यूनियन संसद ने सम्मानित किया है। गुरुवार को उन्हें प्रतिष्ठित सखारोव मानवाधिकार अवॉर्ड से नवाजा गया। अवॉर्ड के तहत 65 हजार डॉलर (करीब 39 लाख रु.) की राशि दी गई। इससे पहले यह पुरस्कार नेल्सन मंडेला, और आंग सान सूकी को मिल चुका है।     गूगल क्रोमबुक 17 अप्रैल से देश में   नई दिल्लीत्नगूगल   क्रोमबुक 17 अक्टूबर से देश में उपलब्ध होगा। क्रोमबुक गूगल के ऑपरेटिंग सिस्टम क्रोम पर आधारित लैपटॉप है। दो साल पहले इसकी लांचिंग हुई थी। गूगल इंडिया ने बताया कि एसर सी 720 और एचपी क्रोमबुक 14 की लांचिंग की जाएगी।     एलिस मुनरो को साहित्य का नोबेल   स्टॉकहोमत्न‘लघुकथाओं   की मल्लिका के नाम से मशहूर लेखिका एलिस मुनरो (82) को इस साल साहित्य के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार देने की घोषणा की गई है। यह पुरस्कार पाने वाली वे 13वीं तथा कनाडा की पहली महिला हैं।       वर्ष 2007 में उनकी एक लघुकथा पर ‘अवे फ्रॉम हर नाम से फिल्म भी बनी है। घोषणा में उन्हें ‘मास्टर ऑफ द कंटेंपररी शॉर्ट स्टोरी कहा गया है।   कनाडा के विंघम में 10 जुलाई 1931 को जन्मी मुनरो ने 1950 में पत्रिकाओं में लिखना शुरू किया था। उनका पहला कहानी संग्रह ‘डांस आफ हैप्पी शेड्स 1968 में प्रकाशित हुआ। शेषत्नपेज 13 पर   ताजा कहानी संग्रह ‘डियर लाइफ पिछले साल प्रकाशित हुआ है। पुरस्कार के रूप में मुनरो को 80 लाख स्वीडिश क्रोनर (करीब 7.51 करोड़ रुपए) मिलेंगे।   स्वीडिश अकादमी ने उनके नाम की घोषणा करते हुए कहा, ‘मुनरो अंग्रेजी के साथ फ्रेंच, स्वीडिश, स्पेनिश और जर्मन में भी लिखती हैं। मुनरो की कहानियां अक्सर गांव-कस्बों के माहौल पर आधारित होती हैं। जहां अस्तित्व की सामाजिक स्वीकार्यता का संघर्ष तनावपूर्ण संबंधों और नैतिक उहापोह को जन्म देता है। ऐसी समस्याएं जो पीढिय़ों के अंतर और महत्वाकांक्षा के टकराव से पैदा होती हैं।   इसी साल जुलाई में न्यूयार्क टाइम्स को इंटरव्यू में उन्होंने कहा था, ‘अपनी पहली पांच किताबें लिखते समय मैं प्रार्थना कर रही थी कि काश मैं उपन्यास लिखती।       -------   साहित्य के नोबेल   -1901 से अब तक 110 लोगों को पुरस्कार दिए गए।   -13 महिलाओं को मिला   -4 बार दो लोगों में बंटा   -42 की सबसे कम उम्र में रुडयार्ड किपलिंग को जंगल बुक के लिए मिला था पुरस्कार   -88 साल की सबसे ज्यादा उम्र में डोरिस लैसिंग को 2007 में मिला था   -64 साल रही है पुरस्कार पाने वालों की औसत उम्र   -1913 में रबींद्र नाथ टैगोर को साहित्य का नोबेल पुरस्कार मिला था  १९८९  जीआर मेडिकल कॉलेज के 11 छात्र किए जाएंगे बाहर  अगली सुनवाई तक हाईवे न सुधरा तो अफसरों पर केस
 
 
 
 
MATRIMONY
 
विज्ञापन