ई-पेपर
Home >> Hoshiyarpur Bhaskar >> Hoshiyarpur
Change Your City
 

Go to Page

 
 

Top

 
आमिर और सलमान के साथ एडिटिंग के ये सात दिनों के सेशन मेरे लिए फिर से यूनिवर्सिटी जाने जैसे रहे। मैं बहुत कुछ समझा-सीखा इस दौरान। मैं दिन में आमिर के साथ कट्टी बट्टी की एडिटिंग करता और रात में सलमान के साथ हीरो की। रोचक ये था कि दोनों ने ही एडिटिंग के दौरान संवादों और दृश्यों में क्लैिरटी यानी स्पष्टता चाही। उन्होंने यही कहा कि तुम्हारी बात समझ रहे हैं लेकिन दर्शक ऐसे नहीं समझते। दर्शक के नजरिए से समझने जितना सरल करो। -निखिल आडवाणी
 
 
 
 
MATRIMONY
 
विज्ञापन