Home >> Madhya Pradesh >> Indore >> Indore City Bhaskar
Change Your City
 
आज से    में   नई शुरुआत...   हर शनिवार और रविवार को     इसमें मिलेगी वीकेंड रीडरशिप के हिसाब से फिटनेस, फैशन, वेलनेस, प्लेसेस और होम डेकोर की विशेष सामग्री  संजय पटेल <img src=images/p3.png<img src=images/p1.png> मालवा में मानसून का इस्तेक़बाल करते अनुष्ठान इंदौर म्यूज़िक फ़ेस्टिवल को पहले ही दिन शनिवार को बेहतरीन आमद मिली। शास्त्रीय संगीत, लोक संगीत और ग़ज़ल की रहनुमाई करते इस आयोजन से साबित हुआ कि जुदा-जुदा रंग की मौसीक़ी को भी यदि सलीक़े से पेश किया जाए तो क़द्रदानों की कमी नहीं। संगीत गुरुकुल के आयोजित इस पहले उत्सव में गुरुकुल के बच्चों ने राग मेघ मल्हार में एक छोटे ख़याल से कार्यक्रम का आग़ाज़ किया।  इंटरनेशनल आर्टिस्ट रेसीडेंसी में शिरकत करेंगे विशाल   आषाढ़ मेले में देखिए कई राज्यों का हैंडीक्राफ्ट   1. टमाटर : टमाटर गल गया हो तो फेंकने के बजाए उसे पूरी तरह गलने दें। जब टमाटर सूख कर सिर्फ बीज बच जाएं तो उन्हें बगीचे में बो दें। कुछ ही दिनों में टमाटर का पौधा निकल आएगा। टमाटर बकेट में भी उगा सकते हैं। एक बड़ी बकेट लें। बकेट के निचले हिस्से में पानी निकलने के लिए छेद होना चाहिए जैसा गमलों में होता है। इसके बाद उसमें खाद, मिट्टी डालें। अब बीजों को हलके से मिट्टी की ऊपरी सतह में गाड़ दें। ज्यादा गहराई में न गाड़ें। 1-२ इंच बड़े होने के बाद टहनियों को हलके हाथ से एक डंडे के साथ बांध दें ताकि वे सीधी ऊपर जाएं।  सिटी रिपोर्टर <img src=images/p3.png<img src=images/p1.png> पंडित कुमार गंधर्व की पुत्री और शिष्या ख्यात शास्त्रीय गायिका कलापिनी कोमकली का कहना है कि संगीत की नई राह के लिए कुमारजी के भीतर ज्वालामुखी धधक रहा था। 1945-46 से ही उनमें इसके लिए गहरी तड़प थी। वे इस बात के लिए निरंतर विचारशील रहे कि मैं कैसे अपनी यह राह खोजूं। उनका मानना था कि कला में विचार के बिना सृजन संभव नहीं। उनका संगीत उनके गहरे चिंतन-मनन का ही सुफल है। यह बात उन्होंने सिटी भास्कर से बातचीत में कही। वे संगीत गुरुकुल के इंदौर म्यूज़िक फेस्टिवल में शनिवार को गायन प्रस्तुत करेंगी।
 
 
 
 
MATRIMONY
 
विज्ञापन