ई-पेपर
Change Your City
 
तस्वीर खींचने के लिए तकनीक से पहले विज़न ज़रूरी   प्रयोग और भारत भवन में किए कई नाटक   वे कहते हैं मैं इंदौर की नाट्य संस्था प्रयोग में 1977 से लेकर 1981 तक कई नाटक कर चुका हूं। फिर भारत-भवन के रंगमंडल में बव कारंत के साथ घासीरात कोतवाल, फ्रिट्ज बेनेविट्ज के साथ चेखव का खड़िया का घेरा (कॉकेशियन चॉक सर्किल), प्रसन्ना के साथ थ्री सिस्टर्स जैसे नाटक किए। फिर मैं मुंबई चला गया और वहां पर प्रभाकर पणशीकर के निर्देशन में थिएटर किया और एक मराठी फिल्म टक्कर में नायक का रोल भी किया। अब मैं अपने ही शहर के युवाओं पर शॉर्ट फिल्म्स बना रहा हूं।  हर चित्रकार यह जानता है िक वह कितने पानी में है   कॉलेजों में सब्जेक्ट के तौर पर पढ़ाया जाएगा एनएसएस   आईआईएम इंदौर में अब हिंदी को भी तवज्जो दी जाएगी   साहित्य में कोरी कल्पना नहीं, विचार है ज़रूरी
 
 
 
 
MATRIMONY
 
विज्ञापन