Home >> Madhya Pradesh >> Indore >> Indore City Bhaskar
Change Your City
 
सिक्के का एक पहलू यह भी है और इसे देखना बेहद ज़रूरी है। बुज़ुर्ग माता-पिता के साथ बेटे-बहू की ज्यादतियों के मामले हम आए दिन अखबारों में पढ़ते हैं, लोगों से सुनते हैं... लेकिन बुज़ुर्गों को सुननेवाला कोई नहीं होता। ऐसे ही माता-पिता को सहारा देने के लिए बनी है अमराई चौपाल। स्कीम नंबर 54 में एक आम के पेड़ के नीचे कुटिया बनवाई गई है। यहां सब मिलते हैं, अपनी समस्याएं साझा करते हैं। रिटायर्ड डीएसपी एन. एस. जादौन जो यहां काउंसलर हैं वे सुना रहे हैं अमराई चौपाल की पूरी कहानी :   “2007 में मैं रिटायर हो गया था। एक बार एक वृद्धजन मेरे पास मिलने आए। उन्होंने शर्ट खोलकर दिखाया, पूरे शरीर पर चोटों के निशान थे। उन्होंने बताया बेटा-बहू मारते हैं। मैंने उनसे कहा ठीक है मैं आपके लिए कुछ करता हूं। वे चले गए। चार दिन बाद खबर आई कि हार्ट अटैक से उनकी मौत हो गई। इस घटना से मुझे बहुत धक्का लगा। मैंने तय किया कि मैं कुछ करूंगा। मैंने और कुछ दोस्तों ने यह अमराई चौपाल बनाई। इसमें 65 मेम्बर्स हैं। रिटायर्ड पुलिस अफसर, वकील, डॉक्टर भी हैं। प्रशासन के सहयोग से हमने सीनियर सिटीज़न सहायता केंद्र भी शुरू किया है। केंद्र की कमान एनएस जादौन, डॉ. आरके शर्मा, सहायक आयुक्त आबकारी रह चुके सचिव के. के. बिरला और एसके सिंह के हाथ में है।  GLOBAL RUNNING DAY   सिटी रिपोर्टर <img src=images/p3.png<img src=images/p1.png> ग्लोबल डे ऑफ पैरेंट्स के साथ आज ग्लोबल रनिंग-डे भी है। इस मौके पर मंगलवार रात 10.30 बजे से शहर में मिनी मैराथन हुई। दरअसल विश्वभर में इस दिन के लिए और सेहत के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए साढ़े पांच लाख रनर्स दौड़े हैं। कई जगहों पर आज दौड़ेंगे। इंदौर के 100 रनर्स भी इनमें शामिल हैं। मैराथन इंदौर टेनिस क्लब से शुरू होकर एमजी रोड, रीगल, राजबाड़ा होते हुए दोबारा इंदौर टेनिस क्लब पर खत्म हुई।   इसी के साथ हम शेअर कर रहे हैं ऐसे लोगों की कहानियां जिन्होंने 40 की उम्र में रनिंग की शुरुआत की। धीरे-धीरे लक्ष्य की ओर बढ़े और अब नेशनल-इंटरनेशनल मैराथंस दौड़ रहे हैं। सभी कहानियों में मॉरल यही है कि निश्चय दृढ़ होगा तो उम्र बाधा नहीं बनेगी।  रेअर पोस्टकार्ड, पेंटिंग्स-रेखांकन और कविताएं   इस पेज पर कुछ लोगों ने विंटेज पोस्टकार्ड तो किसी ने रेअर डाक टिकट लगे पोस्टकार्ड पोस्ट किए हैं। यही नहीं, कुछ कलाकारों ने खुद पेंटिंग्स या रेखांकन बनाकर पोस्ट किए हैं कुछ ने अपनी कविताएं और गद्य शेयर किए हैं। कुछ ने हिंदी के ख्यातनाम कवियों की कविताएं भी पोस्ट की हैं। इसमें त्रिलोचन से लेकर कुंवरनारायण और मंगलेश डबराल से लेकर अनिरूद्ध उमट की कविताएं पढ़ी जा सकती हैं। चेक, जापानी, चाइनीज़ कलाकारों ने अपने रेखांकन और इंस्टॉलेशन की इमेजेस पोस्ट की हैं तो किसी ने पोस्टकार्ड लिखे हैं। -शेष पेज 18 पर  फोर आर मॉडल से बैलेंस करें लाइफ़   ग्लैमर    शॉर्ट फिल्म बनाएंगी माधुरी
 
 
 
 
MATRIMONY
 
विज्ञापन