Home >> Madhya Pradesh >> Indore City Bhaskar >> Indore City Bhaskar
Change Your City
 
सिटी रिपोर्टर <img src=images/p3.png<img src=images/p1.png> पहली नज़र में ख्यात फोटोग्राफर आशीष दुबे के ये फोटोग्राफ्स सुंदर और सटीक रेखांकनों का आभास देते हैं। लेकिन गौर से देखने पर लगता है कि ये तो किसी तालाब के किनारे उगी घास-फूस है और उन्होंने अपनी निहायत ही नाज़ुक और रचनात्मक नज़र से इसे इस तरह से कैप्चर किया है कि ये घास-फूस किसी अनंत से संवादरत हैं। उनके ये फोटोग्राफ्स लंदन से लेकर पर्थ तक में प्रदर्शित हो चुके हैं। वे कहते हैं मैं इन फोटोग्राफ्स के जरिए अनंत के अवकाश को एक्सेस करने की कोशिश की है।   उनके फोटोग्राफ्स की प्रदर्शनी लीडिंग लाइंस पांडीचेरी में 27 सितंबर से आयोजित की जा रही है। वे कहते हैं घास-फूस के मेरे इन फोटोग्राफ्स में जो लाइंस हैं, वे अपने बारे में कम कहती हैं, हमारे बारे में अधिक कहती हैं। इन्हें देखकर हम अपनी ही मन में बसे किसी आकार, आकृति, विचार और भाव से उसका संबंध बना लेते हैं। जैसे एक अक्षर का अपना वायब्रेशन होता है और फिर कई शब्दों से मिलकर एक जुमला बनता है। और इस जुमले का हमारे मन-मस्तिष्क पर एक प्रभाव होता है। ठीक इसी तरह मेरे फोटोग्राफ्स की हर लाइन का एक वायब्रेशन है और सब लाइंस मिलकर एक अर्थ पैदा करती हैं। और हर देखने वाले के लिए इसका अर्थ अलग-अलग होगा। जैसे कबीर की कविता पढ़ते हुए हम उसकी फ्रीक्वेंसी और वेवलेंथ पर जाकर उसका आनंद लेते हैं और उस कविता के भाव या अर्थ से कनेक्ट करते हैं। ठीक उसी तरह मेरे ये फोटोग्राफ्स भी व्यूअर्स को इसी तरह से कनेक्ट कर सकेंगे।  कन्हैया यादव <img src=images/p3.png<img src=images/p1.png> एक्टर जैकी श्रॉफ का कहना है कि मैं पहले जैसा था, आज भी वैसा ही हूं। इंडस्ट्री में आने से पहले भी फकीर था और इंडस्ट्री में आने के बाद आज भी फकीर हूं। यह बात उन्होंंने सिटी भास्कर से बातचीत में कही। वे एक निजी कार्यक्रम में शामिल होने रविवार को शहर में थे।   उन्होंने कहा कि मेरी हमेशा से आदत रही है कि काम मिलेगा तो जरूर करूंगा, लेकिन दूसरों के सामने हाथ नहीं फैलाऊंगा। हर किसी की ज़िंदगी में उतार-चढ़ाव आते है। मेरी ज़िंदगी में बहुत उतार-च़ढ़ाव आए। इनसे इतना ज़रूर सीख गया हूं कि बाहर नज़र दौड़ाकर फुटपाथों पर काम कर रहे उन लोगों को देखो जो एक एक रुपए के लिए संघर्ष करते हैं। आप समझ जाएंगे कि इनके आगे आपका संघर्ष कुछ भी नहीं।  एडिशनल एसपी विनय पॉल ने स्टूडेंट्स को नो ईव टीज़िंग के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि पुलिस विभाग ने खासतौर क्राइम वॉच जैसा प्लेटफॉर्म बनाया है। इसके जरिए शहरवासी डायरेक्ट फोन कर ईव टीज़िंग की शिकायत कर सकते है। शिकायत करने वाले की जानकारी गुप्त रखी जाती है। यह क्राइम खासतौर पर कॉलेज गोइंग गर्ल्स के खिलाफ बढ़ रहा है। इसके जरिए हमारा मकसद युवाओं से सीधे जुड़ना है कि ताकि शहरभर में हो रहे अपराधों में कमी लाई जा सके।  हाल-ए-दिल की बात को कभी अनसुना मत कीजिए   माय स्पेस   आशीष आर. चंद्रल  सराहना से हिम्मत बंधती है, दबाव से नहीं
 
 
 
 
MATRIMONY
 
विज्ञापन