Home >> Madhya Pradesh >> Indore City Bhaskar >> Indore City Bhaskar
Change Your City
 
20 साल बाद महेश्वर पहुंचीं हेमा मालिनी   1994 में शुरू हुए निमाड़ उत्सव कार्यक्रम के तीसरे वर्ष 1996 में हेमा मालिनी ने निमाड़ उत्सव के मंच पर नृत्य प्रस्तुति दी थी। उस वर्ष देवी अहिल्याबाई होल्कर की 200वीं पुण्यतिथि थी। उसके बाद हमेा अब दूसरी बार महेश्वर पहुंची हैं और 31 अगस्त को देवी अहिल्याबाई की 221वीं पुण्यतिथि है। संभावना व्यक्त की जा रही है कि 221वीं पुण्यतिथि के कार्यक्रम में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडनवीस के साथ हेमा मालिनी मंच पर रहेंगी।  वे कहते हैं कि मेरा यह नया उपन्यास ख्यात पांच राजनर्तकियों वासवदत्ता, पद्मावती, शाल्वती, मागंधिया और आम्रपाली पर केंद्रित हैं। मुझे पालीग्रंथ बुद्ध शाल जातक में मागंधिया के इस प्रणय निवेदन पर एक पैराग्राफ में जिक्र मिलता है। जब यह पढ़ा तो इसे आधार बनाकर इस उपन्यास के लिए कौशांबी की रूपगर्विता की असफल प्रेम कहानी अंश लिखा। वह रूपगर्विता है लेकिन बुद्ध उसके इस प्रणय निवेदन को अस्वीकार कर देते हैं। अपने को अपमानित महसूस करने के बाद वह दुर्जनों को बुद्ध का अपमान करने के लिए भेजती है लेकिन बुद्ध दुर्जनों के अपशब्दों से अविचलित हैं। मैंने इसमें प्रणय निवेदन अस्वीकार होने के बाद एक स्त्री के अपमानित और दु:खी मन को दर्शाने की कोशिश की है।  बाबूजी धीरे चलना, प्यार में...   इस बारिश मक्के का सोयता बनाकर देखिए
 
 
 
 
MATRIMONY
 
विज्ञापन