ई-पेपर
Change Your City
 
मंडी का ताला तोड़ 50 हजार का सामान ले गए चोर   जंगल में मिला तेंदुए का शावक, वनकर्मी कर रहे देखभाल   शासकीय भूमि पर हो रहे अतिक्रमण को हटाया   शाउमावि के प्राचार्य बने यादव, पद संभाला   कॉलेज स्टूडेंट्स की पहल पर 6 बच्चे पहुंचे स्कूल   बोलासा में 200 हेक्टेयर क्षेत्र में प्रकोप   बोलासा| बारिश की खेंच से चिंतित किसानों को कामलिया कीट प्रकोप ने दोहरी मुश्किल में डाल दिया है। कई जगह खेत में कीट लग गए हैं और फसल खराब होने की कगार पर पहुंच चुकी है। पास के गांव कानाकुआं में करीब 200 हेक्टेयर क्षेत्र में कामलिया कीट का प्रकोप हुआ है। करीब 50 हेक्टेयर क्षेत्र में कीट ने पूरी तरह फसल को चौपट कर दिया है। खुले मौसम की वजह से यह कीट तेजी से फैल रहा है। किसानों ने इसकी सूचना वरिष्ठ कृषि विस्तार अधिकारी आरके विश्वकर्मा को दी। उन्होंने कीट नियंत्रण के लिए किसानों को कीटनाशक दिलाने का आश्वासन दिया है।  जिला अस्पताल के आरएमओ डॉ. जितेंद्र बामनिया ने बताया सभी बीमारियों के वायरस एक निश्चित समयावधि के बाद अपनी प्रकृति में बदलाव करते हैं। यह बदलाव वायरस के जेनेटिक मटेरियल (स्ट्रेन) में होता है। सट्रेन में बदलाव होने से वायरस की ताकत बढ़ जाती है। इस कारण पहले की तुलना में इसका संक्रमण ज्यादा खतरनाक हो जाता है। आमतौर पर देखा गया है कि मरीज के परिजन और कुछ डॉक्टर डेंगू को गंभीरता से नहीं लेते हैं और सामान्य मलेरिया समझते हैं। बाद में यह बीमारी जानलेवा हो जाती है।  डेंगू का अलर्ट, जिले में लार्वा का सर्वे शुरू   बीएसएनएल ने शुरू की वॉइस मैसेज सेवा   समितियों का गठन 10 जुलाई तक   अभद्र व्यवहार के बाद भी नहीं हुई कार्रवाई   थांदला <img src=images/bulletblack.png<img src=images/p1.png>पेटलावद <img src=images/bulletblack.png<img src=images/p1.png>जोबट
 
 
 
 
MATRIMONY
 
विज्ञापन