ई-पेपर
Change Your City
 

Go to Page << Previous1234567Next >>

 
 
 
21 वीं सदी के सबसे तेजी से ग्रोथ की ओर ले जाते कॅरिअर विकल्पों में से एक है डेटा साइंस। मैक्किंजे ग्लोबल इंस्टीट्यूट के अनुसार, 2018 तक अकेले अमेरिका में 1,40,000 से 1,80,000 डेटा साइंटिस्ट जॉब ओपनिंग्स आएंगी। भारत में भी यह जरूरत तेजी से बढ़ रही है। नैसकॉम के अनुसार, 2020 तक डेटा साइंस फील्ड में तीन लाख कुशल प्रोफेशनल्स की आवश्यकता होगी। हालांकि यहां भविष्य की ओर कदम बढ़ाने से पहले यह जान लेना बेहतर होगा कि आखिर बिग डेटा है क्या?   समझिएबिग डेटा को   बिगडेटा और एनालिटिक्स अंतरराष्ट्रीय स्तर पर टेक्नोलॉजी क्षेत्र के नए डोमेन हैं। मौसम की सूचनाएं एकत्रित करने के लिए लगे सेंसर्स से लेकर सोशल मीडिया पोस्ट, डिजिटल पिक्चर्स और वीडियो, ट्रांजैक्शन रिकॉर्ड्स, जीपीएस सिग्नल्स तक हर दिन अलग-अलग स्रोताें से भारी मात्रा में प्राप्त होने वाला डेटा बिग डेटा है। ईएमसी रिपोर्ट के मुताबिक 2011 तक ग्लोबली 1.8 जेटाबाइट्स डेटा उत्पादित इस्तेमाल किया गया है। 2020 तक इसके 35 जेटाबाइट्स तक बढ़ने की उम्मीद है। भारत में 2020 तक डिजिटल इंफॉर्मेशन 40,000 पेटाबाइट्स से 2.3 मिलियन पेटाबाइट्स तक पहुंचेगी। इतने बड़े डेटा को मैनेज करने के लिए बड़ी संख्या में प्रोफेशनल्स की जरूरत है। यही वजह है कि डेटा साइंटिस्ट और एनालिस्ट प्रोफेशनल्स की मांग बढ़ रही है।   क्याकरते हैं डेटा साइंटिस्ट   प्रत्येकमिनट में नए डेटा की बड़ी मात्रा उत्पन्न होती है। इन सूचनाओं को संयोजित और विश्लेषित करने का काम डेटा साइंटिस्ट करते हैं। उन्हें अलग-अलग डेटा पॉइंट्स से एक निष्कर्ष निकालना होता है ताकि बिजनेस से जुड़े महत्वपूर्ण निर्णय लिए जा सकें। निजी कंपनियां और सरकारें वैश्विक स्तर पर बिग डेटा का इस्तेमाल नए बिजनेस अवसर पैदा करने ग्रोथ के लिए कर रही हैं। ऐसे में डेटा मैनेजमेंट, डेटा क्वालिटी, गर्वनेंस, डेटा वेयरहाउजिंग और विजुअलाइजेशन सोल्यूशंस डेटा एनालिस्ट की जिम्मेदारी होते हैं। सरल शब्दों में कहें तो इंफॉर्मेशन का एनालिसिस और उसे उपयोगी फॉर्मेट में बदलने का काम डेटा साइंटिस्ट करते हैं।   बढ़ताबाजार   नैसकॉमक्राइसिल ग्लोबल रिसर्च और एनालिटिक्स की साझा रिपोर्ट में 2012 में 200 मिलियन अमेरिकी डॉलर वाली भारतीय बिग डेटा इंडस्ट्री के 2016 तक 1 बिलियन अमेरिकी डॉलर के आंकड़े तक पहुंचने का अनुमान जताया गया है। अलग-अलग सेक्टर्स में बिग डेटा एनालिटिक्स के बढ़ते इस्तेमाल ने न्यू मीडिया, बैंकिंग एंड फाइनेंशियल सर्विसेज, रिटेल, टेलिकम्यूनिकेशन, ट्रैवल, मैन्यूफैक्चरिंग, एजुकेशन, एनर्जी सेक्टर्स जैसे क्षेत्रों में डेटा साइंटिस्ट की मांग बढ़ाई है। आने वाले सालों में इस मांग में तेजी से बढ़ोतरी होगी। हेल्थ केयर, मैन्यूफैक्चरिंग, इंश्योरेंस और बैंकिंग सेक्टर इसके लिए टॉप रिक्रूटर्स होंगे। इंडस्ट्री सेक्टर्स के साथ-साथ एग्रीकल्चर क्लीनिकल रिसर्च एरिया में भी इनकी जरूरत बढ़ेगी।   कामकी स्किल्स   सफलडेटा साइंटिस्ट दो विषयों के मास्टर होते हैं - प्रोग्रामिंग स्टैटिस्टिक्स। इसके साथ ही उनके पास मजबूत डोमेन नॉलेज भी होती है। यह कॅरिअर उन टेक्नोलॉजी सैवी लोगों के लिए है जिनके पास अच्छी एनालिटिकल स्किल्स हैं। कम्प्यूटर साइंस ग्रेजुएट्स के लिए यहां अच्छे अवसर हैं। एनालिटिकल प्रॉब्लम सॉल्विंग स्किल से लेकर आउट ऑफ बॉक्स थिंकिंग और लॉजिकल सोल्यूशंस तक पहुंचने की काबिलियत को यहां प्राथमिकता मिलती है। डेटा माइनिंग
 
 
 
 
MATRIMONY
 
विज्ञापन