ई-पेपर
Change Your City
 

Go to Page << Previous1234567Next >>

 
 
 
गर आपसोशल मीडिया को दोस्तों से जुड़ने के प्लेटफॉर्म से कहीं ज्यादा एक टूल समझते हैं तो यह आपके लिए करियर का सही विकल्प बन सकता है। बीते सालों में डिजिटल मार्केटिंग ने सोशल मीडिया को नौकरी का एक सशक्त साधन बनाया है। असल में डिजिटल या सोशल मीडिया अब रियल टाइम मार्केटिंग बन चुका है और यह सिर्फ एडवरटाइजिंग या मार्केटिंग के बारे में नहीं है, बल्कि टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल से जुड़ा है, जिससे बिजनेस को नया रूप देकर बाजार की प्रतिस्पर्धा का सामना किया जा सके। इंडस्ट्री अांकड़ों के मुताबिक ऑनलाइन प्रेजेंस के लिए कंपनियों का सालाना डिजिटल मार्केटिंग बजट 1 से 12 करोड़ रुपए है, जो धीरे-धीरे बढ़ रहा है। डिजिटल मार्केटिंग एजेंसी अलाइव नाउ के सीईओ अद्विथ धुड्‌डू के अनुसार क्लाइंट पहले अपने मार्केटिंग बजट का 1-4 प्रतिशत डिजिटल कैंपेन पर खर्च करते थे अब वे 7-12 प्रतिशत खर्च कर रहे हैं। डिजिटल एजेंसी अविज्ञांता के सीईओ मोक्ष जुनेजा के अनुसार, ज्यादातर कंपनियां या यूजर्स यह खर्च फेसबुक, ट्वीटर, लिंक्ड इन, यू ट्यूब जैसे सोशल नेटवर्क्स पर कर रहे हैं। जाहिर है, इस काम के लिए प्रशिक्षित प्रोफेशनल्स की भी जरूरत पैदा हो रही है।     किसेमिलेगी नौकरी   अच्छीबात यह भी है कि सोशल मीडिया इंडस्ट्री अनुभव से कहीं ज्यादा रुझान की मांग करती है। यहां उन उम्मीदवारों का भी स्वागत है, जो टेक्नोलॉजी के बारे में ज्यादा नहीं जानते, लेकिन सीखने की इच्छा रखते हैं और उनका भी, जो तकनीक को जिंदगी बना चुके हैं। एक ओर कस्टमर सर्विस नॉलेज, अच्छी अंग्रेजी और ग्राहकों के सवालों को समझने की क्षमता जैसी साधारण योग्यता, आपको यहां नौकरी दिला सकती है, वहीं मास कम्यूनिकेशन, एमबीए, एडवरटाइजिंग, पत्रकारिता, ऑनलाइन मार्केटिंग तकनीकी शिक्षा की डिग्रियां इस क्षेत्र के शिखर पर आपको पहुंचा सकती हैं। यहां इंजीनियर और आर्ट्स ग्रेजुएट्स भी हैं तो कॉमर्स के पेशेवर भी। बाज़ार में ब्रांड की पोजिशन को भांपने, ग्राहक के नजरिए से सोचने और ब्रांड की ओर से संवाद करने की कुशलताओं के साथ सोशल मीडिया प्रोफेशनल्स इस प्लेटफॉर्म का उपयोग ब्रांड अवेयरनेस, बिक्री बढ़ाने, प्रॉडक्ट लॉन्च, कम्यूनिटी तैयार करने, क्लाइंट की वेबसाइट पर ट्रैफिक बढ़ाने के लिए करते हैं। इन सभी कामों के लिए इस क्षेत्र में नौकरी के अलग-अलग प्रोफाइल हैं। इसके अलावा एक ही प्रोफाइल दो-तीन नामों से भी मिल सकता है। उदाहरण के तौर पर कॉपीराइटर को कंटेंट डेवलपर भी कहा जाता है, सोशल मीडिया डेवलपर या एप्लीकेशन डेवलपर का काम लगभग एक जैसा होता है। इसी तरह सोशल मीडिया कैंपेन मैनेजर, सोशल मीडिया मार्केटिंग मैनेजर, सोशल मीडिया प्रॉडक्ट मैनेजर, अकाउंट डायरेक्टर, सोशल मीडिया कम्यूनिकेटर भी इस फील्ड के पेशेवरों में शामिल हैं।-  वेबसाइट  एडमिशन  ÂðÁ  ÂðÁ  ÂðÁ  एमआरएफ  फर्स्ट   पर्सन
 
 
 
 
MATRIMONY
 
विज्ञापन