ई-पेपर
Home >> Jodhpur >> Dbstar Jodhpur
Change Your City
 
विकलांगों के चढ़ने की समस्या बताई तो सीढ़ियां ही तोड़ दी, बढ़ी परेशानी  सुगम समाधान पाेर्टल पर 9 जनवरी, 2014 को शिकायत दर्ज होने के बाद कलेक्टर ने 13 दिन बाद स्मरण पत्र लिखा था कि मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से सुगम पोर्टल की मॉनिटरिंग हो रही है इसलिए प्रकरण जल्द निस्तारित किए जाएं, डेढ़ साल से ज्यादा समय बीतने के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं हुई। इस अवधि में कलेक्टर ने कुल 12 रिमाइंडर राजस्व, उपखंड अधिकारी लूणी को लिखे। कई बार कड़े शब्दों में तो कई बार खेदजनक बताते हुए लेकिन अफसरों के कानों पर जूं तक नहीं रेंगी। इस बीच 3 जुलाई, 2014 को जेडीए आयुक्त ने जेडीए उपायुक्त पूर्व को रिमार्क लिखा कि शाम 4 बजे से पहले ऑनलाइन प्रति उत्तर पेश करें लेकिन तो उत्तर आया और ही कार्रवाई हुई। जिला कलेक्टर ने 12 फरवरी, 27 अगस्त, 15 सितंबर, 1 अक्टूबर,16 अक्टूबर, 18 दिसंबर 2014, 12 फरवरी, 2015, 9 मार्च, 25 मार्च, 2015, 15 अप्रैल, 2015 अभी करीब 10 दिन पहले 21 जुलाई आखिरी रिमांडर लिखा है।  लड़की की जीप से मामूली िभड़ी कार, 500 रु. के लिए खूब मचाया हंगामा  डीबी स्टार :जोधपुर  जोधपुरविकास प्राधिकरण से शहर के कई इलाकों में खाली पड़े भूखंडों के फर्जी पट्टे देने का गोरखधंधा चल रहा है। कागजों में हेरफेर कर भूखंड पर भू माफिया काबिज हो रहे हैं। निजी सोसायटी के भूखंडों के कागजों में गड़बड़ी कर जेडीए से फर्जी उठाए जा रहे हैं। इधर, जेडीए के अफसर विभागीय जांच कराने के बजाए पुलिस में मामला दर्ज कर जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ रहे हैं।   डीबी स्टार ने 30 जून को जेडीए की मिलीभगत, महिला से उठा लिया दूसरे के प्लॉट का पट्टा शीर्षक से खबर प्रकाशित कर एक मामला का खुलासा किया था। मामला खुलने के बाद अफसरों तो जांच शुरू नहीं की लेकिन डीबी स्टार के पास ऐसे कई और मामले पहुंचे। ताजा मामला भी राजीव गांधी गृह निर्माण सहकारी समिति से ही जुड़ा है। समिति के कई और भूखंडों पर जेडीए से फर्जीवाड़ा कर पट्टा उठाया गया है।  माधुरी लेकर आईं अपनी क्लोदिंग लाइन Madz   पेज} 3
 
 
 
 
MATRIMONY
 
विज्ञापन