Home >> Rajasthan >> Dbstar Jodhpur >> Dbstar Jodhpur
Change Your City
 
Q ठेला एसोसिएशन के चुनाव में पुलिस लगी थी क्या?   Aहां,चंचल और सुमेर सिंह वहां तैनात थे।   Qक्या अापको पता है कि चुनाव के बाद जुलूस निकला था?   Aनहीं,कोई जुलसू नहीं निकला। आप बताओं आपके पास कोई जानकरी है क्या इस बारे में।   Qजुलूस का वीडियो है हमारे पास?   Aमैंरात 11 बजे तक वहीं था, कोई जुलूस नहीं था।   Qजुलूस के दौरान जाप्ता क्यों नहीं लगाया?   Aजबजुलूस ही नहीं तो क्यों लगाते। चुनाव के बाद ऐसा होने की कोई जानकारी नहीं थी। नहीं तो जवान लगा देते।   Qजुलूस में लोग खुले आम शराब पी रहे थे?   Aएेसीकोई बात नहीं है।  एम्स के बाहर मरीजों को परेशान करने वाले लपकों को रोकेंगे सुरक्षा गार्ड  25 लाख टैक्स चुकाए बिना दौड़ रहे थे वाहन, पकड़ कर वसूली की  एसीपी के खिलाफ बनी चार्जशीट को सरकार ने रोका  बीईओ ने अपने स्तर पर बदल दी प्रबोधकों की स्कूलें  दरअसल, 1998 में पावटा अस्पताल में तीन अलग-अलग फर्मों से 3 लाख 28 हजार 845 रुपए की दवाओं की खरीद हुई थी। इसको लेकर शिकायत हुई। शिकायत की जांच विशेषाधिकारी की ओर से की गई। इसमें माना गया कि दवा खरीद के तय नियमों के विपरीत जाकर यह खरीद हुई है। जांच में अस्पताल के प्रभारी चिकित्सक संजीव जैन को दोषी मानते हुए आरोप पत्र जारी किया गया गया। इस पर कोर्ट से रोक लगे भी 18 साल हो गए हैं। इस बीच, गत 16 जून को महेंद्र कुमार की ओर से शिकायत दर्ज करवाई गई कि पूर्व में हुई जांच पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। पोर्टल को संभालने वाले जिम्मेदारों को यह नहीं पता था कि वे शिकायत उसी को भेज रहे हैं जिसके खिलाफ आरोप है। नतीजा यही निकला कि आरोपी चिकित्सक ने खुद को निर्दोष बताते हुए शिकायत बंद करने के साथ सरकारी वेबसाइट पर इस तरह की झूठी शिकायत करने पर शिकायतकर्ता के खिलाफ ही कड़ी कार्रवाई की जाए।  मां के वाल्व ट्रांसप्लांट के लिए बच्चों को ‘पत्र मिल रहे, इलाज नहीं  सलमान की फिल्म से बाहर हुए संतोषी...   पेज-4
 
 
 
 
MATRIMONY
 
विज्ञापन