Home >> Rajasthan >> Dbstar Jodhpur >> Dbstar Jodhpur
    • Set as Default
     
     
    शिक्षक बनाने के नाम पर धोखाधड़ी, पांच माह बाद बदला थाना, मिले नए केस नंबर, जांच अधिकारी वही लेकिन अब जांच को तैयार नहीं  मेरी दोस्त डर से कांप रही थी, और मैं चुपचाप ...   पेज-3 जेडीए की योजना में अपना भूखंड देखने पहुंचे तो वहां मिला गड्ढा  एसएमएस के 30 पैसे, भेजे ही नहीं   विश्वविद्यालयकंपनी के बीच हुए एमओयू की एक शर्त यह भी थी कि कंपनी फार्म जमा कराने से लेकर अन्य सुविधाओं उनकी सूचना स्टूडेंट्स के मोबाइल पर एसएमएस के माध्यम से देगी। इसके लिए दो तरह के एसएमएस भेजने पर रजामंदी हुई थी। इसके लिए यूनिवर्सिटी की ओर से 30 पैसा प्रति एसएमएस चार्ज कंपनी को दिया गया। पर वास्तव में स्टूडेंट्स के पास कंपनी की ओर से एसएमएस पहुंचे ही नहीं। यह सेवा भी मोबाइल के बजाए कागजों में ही कर दी गई।   डायरेक्टटेंडर पर सवाल   पड़तालमें पता चला कि गत ऑनलाइन टेंडर प्रक्रिया में छह कंपनियां आई थी। पिछली बार टेंडर लेने वाली कंपनी काम नहीं कर पाई तो सरकारी नियमानुसार टेंडर में शामिल अन्य कंपनियों के साथ नेगोशिएशन करना चाहिए था। पर यूनिवर्सिटी बिना टेंडर किए इस कंपनी को ऑनलाइन का टेंडर दे दिया गया। इधर, कंपनी विश्वविद्यालय के बीच बने समझौता पत्र पर कंपनी के प्रतिनिधि के हस्ताक्षर की गवाही विश्वविद्यालय वित्तीय सलाहकार ने दी है, जो कि विश्वविद्यालय के प्रतिनिधि हैं।  सीएम प्रस्तावित दौरे को देखते हुए जेडीए करवा रहा है खूब काम  रायल्टी की फर्जी रसीदें छापने वाला गिरफ्तार  50 हजार नहीं दिए, दो साल लगवाते रहे चक्कर