ई-पेपर
Home >> Magazine >> Rasrang
Change Magazine
 
कुछ अपवादों को छोड़ दें तो कभी भी हिमालय और इससे जुड़े मसलों पर गंभीर विमर्श हुआ ही नहीं। हिमालय को हमेशा ही हाशिए पर रखकर इसके बारे में बड़े ही सतही तौर पर सोचा गया है और सरकारों ने पारिस्थि की को केंद्र में रखने की बजाए राजस्व और मुनाफे को ही महत्व दिया।  भारतीय उपमहाद्वीप की विशिष्ट पारिस्थितिकी की कुंजी हिमालय का भूगोल है लेकिन हिमालय की पर्वतमालाओं के बारे में पिछले दो ढाई सौ बरसों में हमारे अज्ञान का लगातार विस्तार हुआ है।   इनको जितना और जैसा बर्बाद अंग्रेजों ने दो सौ सालों में नहीं किया था उससे कई गुना ज्यादा इनका नाश हमने पिछले साठ पैंसठ सालों में कर दिया है।  खेल के मैदान की पारंपरिक छवि मर्दानगी की रही है और भारतीय समाज पर हावी पितृसत्ता ने इसे दरकने नहीं दिया है| लडकियां या तो मेडल स्टैंड पर मिलेंगी अन्यथा सजी-धजी मेडल का थाल पकड़े समारोह की शोभा बढ़ाती हुई नज़र आएंगी।
 
 
 
 
MATRIMONY
 
विज्ञापन