ई-पेपर
Change Your City
 

Go to Page << Previous1234567...1516Next >>

 
 
 
नई दिल्ली | सुप्रीमकोर्ट ने बुधवार को साफ कर दिया कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के हत्यारों संथन, मुरुगन और पेरारिवलन को फांसी नहीं होगी। केंद्र सरकार ने इन तीनों की उम्रकैद की सजा मौत में बदलने के लिए क्यूरेटिव याचिका दायर की थी। लेकिन शीर्ष कोर्ट की संविधान बेंच ने इसे खारिज कर दिया। सुप्रीम कोर्ट ने दया याचिका पर देरी के आधार पर पिछले साल फरवरी में इन तीनों की मौत की सजा को उम्रकैद में तब्दील कर दिया था। इसके बाद तमिलनाडु सरकार ने तीनों को जेल से छोड़ने का आदेश दिया था। केंद्र सरकार इसके विरोध में सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई। उसने क्यूरेटिव याचिका दायर कर मौत की सजा बरकरार रखने की मांग की। सॉलिसिटर जनरल रंजीत कुमार ने पिछले हफ्ते हुई सुनवाई के दौरान कहा, ‘इन लोगों ने हमारे पूर्व प्रधानमंत्री को मारा है। इनके साथ दया नहीं बरती जाए। सुनवाई जस्टिस एचएल दत्तू, एफएम इब्राहिम कलीफुल्ला, पिनाकी चंद्र घोष, अभय मनोहर सप्रे की बेंच ने की।  कुल पृष्ठ 16 |मूूल्य~ 4.00
 
 
 
 
MATRIMONY
 
विज्ञापन