ई-पेपर
Home >> Raipur >> City Bhaskar
Change Your City
 
लांग टर्म रिजल्ट पर फोकस जरूरी   स्पेशल किड्स की अट्रैक्टिव पेंटिंग्स ने जीता सबका दिल   आईआईटी जेईई फ्री वर्कशॉप आज   जादूगर आनंद जूनियर का फायर स्केप शो आज   सिटी रिपोर्टर <img src=images/p3.png<img src=images/p1.png> जब आर्टिस्ट के चेहरे पर सही मेकअप हो तो दर्शक को किरदार के बारे में देखते ही जानकारी मिलती है। अगर स्टोरी के मूड के हिसाब से लाइट परफेक्ट हो तो ऑडियंस खुद को नाटक से जोड़ सकती है। कुछ ऐसी ही बेहद सामान्य लेकिन महत्वपूर्ण बातों से मुखातिब हुए स्टूडेंट्स। मौका संस्कृति विभाग में आयोजित नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा (एनएसडी) और संस्कृति विभाग की वर्कशॉप का रहा। सिविल लाइंस स्थित ऑडिटोरियम में संदीप भट्टाचार्य ने लाइट और स्पेशल इफेक्टस की जानकारी बच्चों को दी। शिवदास घोड़के ने मेकअप से जुड़ी बारीकियां स्टूडेंट्स को बताई।   लाइट कहती है कहानी : रोशनी का एक-एक मूवमेंट कहानी कह जाता है। स्टूडेंट्स को कुछ इसी अंदाज में लाइट्स का महत्व समझाया संदीप भट्टाचार्या। उन्होंने बताया कि लाइट का सही अरेंजमेंट यानी की एंगल, कलर सही होने से वो कलाकारों के एक्सप्रेशन को बेहतर करते हैं।   मेकअप से होता है विश्वास: अगर 20 साल का एक्टर 80 साल के बूढ़े का किरदार करे तो उस पर ऑडियंस तब विश्वास करेगी जब वो 80 साल का दिखे। शिवदास ने मेकअप के कई शेड्स स्टूडेंट्स को बताए।     होते हैं। ऐसे ही कई शेड्स इन 15 दिनों में स्टूडेंट्स को बताए गए।
 
 
 
 
MATRIMONY
 
विज्ञापन